New Status

New Status in Hindi with Images

New Status & Shayari in Hindi

Cool Whatsapp new status and Shayari in hindi

झूठ और फ़रेब … लालच से परे  है I

भगवान का शुक्र है आइने आज भी खरे है।

jhooth aur fareb … laalach se pare  hai .

bhagavaan ka shukr hai aaine aaj bhi khare hai.

दिल धोख़े में है और धोखेबाज़ दिल में।

dil dhokhe mein hai aur dhokhebaaz dil mein.

फ्री FREE फ्री

फ़ायदे  की बात हमारे साथ सुने लाखों किसी भी भाषा में कहानिया जैसे रामायण, गीता और भी बहुत सी कहानिया अमिताभ बच्चन की आवाज़ में। 

लोग बेताब थे मिलने को मंदिर के पुजारी से,

हम दुआ लेकर आ गए बहार बैठे भिखारी से।

log betaab the milne ko mandir ke pujaari se,

ham dua lekar aa gae bahaar baithe bhikhaari se.

मैं तो हैरान हूँ के हैरान नहीं कोई,

लोग तो इतने हैं मगर इंसान नहीं कोई।

main to hairaan hoon ke hairaan nahin koi,

log to itne hain magar insaan nahin koi.

तुझे देखने से जो मिलता है।

सारा मसला उसी सुकून का है।

tujhe dekhane se jo milata hai.

saara masala usi sukoon ka hai.

समंदर के किनारे आबादी नहीं होती,

प्यार करो जिससे उससे शादी नहीं होती।

samandar ke kinaare aabaadi nahin hoti,

pyaar karo jisase usase shaadi nahin hoti.

माना कि मुझमें बादशाह जैसी बात नहीं ,

पर मेरे जैसा बनने की बादशाओ की भी औकात नहीं।

maana ki mujhme baadashaah jaisee baat nahin ,

par mere jaisa banane kee baadashao ki bhi aukaat nahin.

एक तो तुझे भूल जाने का वहम पाले हुए है।

एक message तुम्हारा फोन में संभाले हुए है।

ek to tujhe bhool jaane ka vaham paale hue hai.

ek message tumhaara phon mein sambhaale hue hai.

इक ज़रा सी खता क्या हुई, इतने बदल गए।

बात साथ चलने की थी तुम आगे निकल गए।

ik zara see khata kya huee, itane badal gae.

baat saath chalane kee thi tum aage nikal gae.

जान जाती थी जिस के जान कहने पर।

जान सी भी जान में मालुम नहीं पड़ता। 

jaan jaati thi jis ke jaan kahane par.

jaan see bhee jaan mein maalum nahin padta.

कैसे कह दू की मुलाक़ात नहीं होती।

रोज़ मिलते है मगर बात नहीं होती।

kaise keh du ki mulaaqaat nahin hoti.

roz milate hai magar baat nahin hoti.

New status for Whatsapp in Hindi

शर्त लगी है वक़्त से क़िस्मत को हारने की ,

कब से चल रही है कोशिश तक़दीर को मनाने की।

shart lagi hai vaqt se qismat ko haarane kee ,

kab se chal rahee hai koshish taqadeer ko manaane ki.

किसी के घर में नई कार आई है 

किसी के घर में माँ की दवाई उधार आयी है।

kisi ke ghar mein naee kaar aai hai 

kisi ke ghar mein maa kee davai udhaar aayi hai.

सबने कहा के मोहब्बत भूल है, पर हमनें कहा के दर्द कबूल है।

sabne kaha ke mohabbat bhool hai, par hamane kaha ke dard kabool hai.

तू मिले न मिले ये तो मुक़्क़दर की बात है। 

पर सुकून बहोत मिलता है तुझे अपना सोच कर।

tu mile na mile ye to muqqadar ki baat hai. 

par sukoon bahot milta hai tujhe apana soch kar.

नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम।

बिछड़ना है तो झगड़ा क्यों करें हम।

naya ek rishta paida kyon karen ham.

bichhadana hai to jhagada kyon karen ham.

मैं तो बस शरमाया था बस तेरा नाम सुनकर.

 इसका ये मतलब तो नहीं की मुझे इश्क़ है।

main to bas sharamaaya tha bas tera naam sunakar.

 isaka ye matalab to nahin kee mujhe ishq hai.

जब वक़्त करवट लेता है तो बाज़ियां नहीं जिंदिगियां बदल जाती है।

jab vaqt karavat leta hai to baaziyaan nahin jindigiyaan badal jaatee hai.

इतना भी दूर न जाओ की करीब न आ सको,

 तालुकात उतना ही रखो की जितना निभा सको।

itana bhee door na jao kee kareeb na aa sako,

 taalukaat utana hee rakho kee jitana nibha sako.

अब किसी तरह तो ये हंगामा टाला जाए।

उसका नाम किसी और के साथ उछाला जाए।

ab kisee tarah to ye hangaama taala jae.

usaka naam kisee aur ke saath uchhaala jae.

सोचता हु तमगा ही देदू उसे ख़ुदा का।

सुनता खुदा भी नहीं सुनता वो भी नहीं।

sochata hu tamaga hee dedoo use khuda ka.

sunata khuda bhee nahin sunata vo bhee nahin.

New status for love

मुसाफिर की बातों पर ऐतबार मत करना,

 हस के टाल देना बातें बस प्यार मत करना।

musaaphir kee baaton par aitabaar mat karana,

 has ke taal dena baaten bas pyaar mat karana

खानाबदोशी अब उफ़ान पर चढ़ गयी है।

ये बाढ़ मेरे ही क्यों मकान पर चढ़ गयी है।

khaanaabadoshee ab ufaan par chadh gayee hai.

ye baadh mere hee kyon makaan par chadh gayee hai.

मेरे दर्द से वाकिफ नहीं अपनी खता मानता ही नहीं।

क्या शिकायत करू उसे जो वफ़ा जानता ही।

mere dard se vaakiph nahin apanee khata maanata hee nahin.

kya shikaayat karoo use jo vafa jaanata hee.

हर वक़्त लेकर इम्तेहान मेरा ऐ खुदा यु मुझे न आज़माया कर

 या तो मेरी इबादत क़ुबूल कर नहीं तो बेमतलब के ख्वाब न दिखाया कर।

har vaqt lekar imtehaan mera ai khuda yu mujhe na aazamaaya kar

 ya to meree ibaadat qubool kar nahin to bematalab ke khvaab na dikhaaya kar.

ज़रा ज़रा सी बात पर दिल तोड़ देते हो जब चाहे तुम बात करना क्यों छोड़ देते हो। 

zara zara see baat par dil tod dete ho jab chaahe tum baat karana kyon chhod dete ho.

कहर देता है, मौसम ज़र्द देता है।

यहां जो कोई मिलता है वो बस दर्द देता है।

kahar deta hai, mausam zard deta hai.

yahaan jo koee milata hai vo bas dard deta hai.

चाहत की आरज़ू छोड़ी तब जाके सोना आया।

” इश्क़” ये चोट उससे ऐसी लगी तो मुझे रोना आया।

chaahat kee aarazoo chhodee tab jaake sona aaya.

” ishq” ye chot usase aisee lagee to mujhe rona aaya.

इश्क़-विश्क की बातों में बहक गए होते।

तुमने जो छुआ होता तो छलक गए होते।

ishq-vishk kee baaton mein bahak gae hote.

tumane jo chhua hota to chhalak gae hote.

बचपन भी कमाल था ,

ना कोई ज़रूरत थी ना कोई ज़रूरी था। 

bachapan bhee kamaal tha ,

na koee zaroorat thee na koee zarooree tha.

अपनी तन्हाई को, तन्हाईओं का डर दिखा कर भगा दिया करते हैं।

है रौशनी की ज़रूरत ही क्या मुझे, हम वो है,

जो अँधेरे की यारी में दिया बुझा दिया करते है।

apanee tanhaee ko, tanhaeeon ka dar dikha kar bhaga diya karate hain.

hai raushanee kee zaroorat hee kya mujhe, ham vo hai,

jo andhere kee yaaree mein diya bujha diya karate hai.

किसी और का हाथ कैसे थाम लू मैं ,

वो तनहा मिल गयी तो क्या जवाब दूंगा।

kisee aur ka haath kaise thaam loo main ,

vo tanaha mil gayee to kya javaab doonga.

अपने मतलब के लिए अपना बनाते है लोग,

अपनी फ़ितरत से कहाँ बाज़ आते हैं लोग।

apane matalab ke lie apana banaate hai log,

apanee fitarat se kahaan baaz aate hain log.

वो संस्कारी थी जब तक सेहती थी।

बद्तमीज़ होगयी जब बोल पड़ी।

vo sanskaaree thee jab tak sehatee thee.

badtameez hogayee jab bol padee.

हर लड़की पर मरते हो , ऐ जानू कितने सस्ते हो।

har ladakee par marate ho , ai jaanoo kitane saste ho.

दुख इस बात का नहीं की तुम कुत्ते निकले।

अफ़सोस इस बात का है की कुत्ते हो कर भी वफादार न निकले।

dukh is baat ka nahin kee tum kutte nikale.

afasos is baat ka hai kee kutte ho kar bhee vaphaadaar na nikale.

बहुत सी बातें करनी है तुम्हारे साथ,

आजाना पूरी जिंदिगी का वक़्त लेकर।

bahut see baaten karanee hai tumhaare saath,

aajaana pooree jindigee ka vaqt lekar.

लफ्ज़ो का था खेल और दिल की थी परेशानी।

समझाते भी तो कैसे, उन्हें आँखों की ज़ुबानी।

laphzo ka tha khel aur dil kee thee pareshaanee.

samajhaate bhee to kaise, unhen aankhon kee zubaanee.

एक दर्द ही तो है , जो तुम्हारे जाने के बाद भी मेरा साथ दे रहा है।

ek dard hee to hai , jo tumhaare jaane ke baad bhee mera saath de raha hai.

वक़्त ने तुम्हे बदल दिया और तुमने मुझे।

vaqt ne tumhe badal diya aur tumane mujhe.

छोड़ दो अब उससे वफ़ा की उम्मीद जो रुला सकता है

 वो भुला भी सकता है।

chhod do ab usase vafa kee ummeed jo rula sakata hai

 vo bhula bhee sakata hai.

New status Shayari & Images

दिल नरम, दिमाग़ गरम, बाक़ी सब उपर वाले का करम।

dil naram, dimaag garam, baaqee sab upar vaale ka karam.

कुछ पल और ठहर जा ऐ जिंदिगी मिलना है उससे एक आखिरी बार।

kuchh pal aur thahar ja ai jindigee milana hai usase ek aakhiree baar.

जो न मिले उसकी ही चाहत रहती है,

जो मिल जाए तो भला क़दर किसे रहती है

jo na mile usakee hee chaahat rahatee hai,

jo mil jae to bhala qadar kise rahatee hai

अपना अच्छा वक़्त केवल उन्ही को दें 

जो बुरे वक़्त में आपके साथ रहे हों।

apana achchha vaqt keval unhee ko den 

jo bure vaqt mein aapake saath rahe hon.

जिसकी क़िस्मत में लिखा हो रोना।

वो मुस्कुरा भी दें तो आंसू निकल आते है।

jisakee qismat mein likha ho rona.

vo muskura bhee den to aansoo nikal aate hai.

जिंदिगी का सफर भी कितना अजीब है,

शामें कटती नहीं और साल गुज़रते चले जाते हैं।

jindigee ka saphar bhee kitana ajeeb hai,

shaamen katatee nahin aur saal guzarate chale jaate hain.

किस काम की रही ये दिखावे की जिंदिगी, 

वादे किये किसे से और गुज़ारे किसी और के साथ।

kis kaam kee rahee ye dikhaave kee jindigee, 

vaade kiye kise se aur guzaare kisee aur ke saath.

जिस दिन जिंदिगी में मेरी कमी पाओगे, 

उस दिन खुद को माफ़ नहीं कर पाओगे।

jis din jindigee mein meree kamee paoge, 

us din khud ko maaf nahin kar paoge.

कहीं पर पहुंचने के लिए कहीं से निकलना पड़ता है।

kaheen par pahunchane ke lie kaheen se nikalana padata hai.

हम उनके ख़्वाब पर ख़्वाब सजाते चले गए।

 और वो हमारा वज़ूद मिटाते चले गए

ham unake khvaab par khvaab sajaate chale gae.

 aur vo hamaara vazood mitaate chale gae

खुद को खो दिया मैंने तुम्हें पाने के लिए।

khud ko kho diya mainne tumhen paane ke lie.

आजकल लोग मज़ाक का सहारा लेकर दिल की बात कह जाते हैं।

aajakal log mazaak ka sahaara lekar dil kee baat kah jaate hain.

तेरी बेवफ़ाई के अंगारों में लिपटी है जिंदिगी मेरी,

मैं इस तरह आग न होता अगर हो जाती तू मेरी।

teree bevafaee ke angaaron mein lipatee hai jindigee meree,

main is tarah aag na hota agar ho jaatee too meree.

अल्फ़ाज़ सिर्फ़ चुभते हैं। ख़ामोशी मार देती है।

alfaaz sirf chubhate hain. khaamoshee maar detee hai.

आज भी उसकी ज़रूरत है जिसके लिए हम ज़रूरी नहीं।

aaj bhee usakee zaroorat hai jisake lie ham zarooree nahin।

New status for fb

तुजुर्बे ने एक बात सिखाई है। 

एक नया मर्ज़ ही पुराने दर्द की दवाई है।

tujurbe ne ek baat sikhaee hai. 

ek naya marz hee puraane dard kee davaee hai.

अपने उसूल मुझे कुछ इस तरह तोड़ने पड़े। 

जहां गलती न थी वहां भी हाथ जोड़ने पड़े।

apane usool mujhe kuchh is tarah todane pade. 

jahaan galatee na thee vahaan bhee haath jodane pade.

जिसको डर ही नहीं था मुझे खोने का। 

उसे क्या अफ़सोस होगा मेरे न होने का।

होठों की हसीं को न समझ हक़ीक़त-ऐ-जिंदिगी, 

दिल में उतर के देख कितने टूटे हुए हैं हम।

बुरे वक़्त ज़रा अदब से पेश आ, 

क्युकि वक़्त नहीं लगता बदलने में।

हम उसके नहीं होते जो हर किसी के होजाते हैं।

तेरे इश्क़ की आग में जलकर ऐ-मेहबूब,

 कुछ में राख हुआ कुछ मैं पाक हुआ।

हम तो फ़ना होगए उनकी आँखे देखकर, 

ना जाने वो आइना कैसे देखते होंगे।

शतरंज में वज़ीर और जिंदिगी में ज़मीर,

 मर जाए तो समझिये खेल ख़तम।

हम तबाह होगए फिर भी वो बदले नहीं, 

हमारी मोहब्बत से सच्ची उनकी नफ़रत थी।

करने दो जो बकवास करते हैं,

 ख़ाली बरतन ही हमेशा आवाज़ करते हैं।

बिछड़ते वक़्त किसी की आँख में जो आता है।

 तमाम उमर वो आंसू ख़ूब रुलाता है।

अगर इश्क़ का रंग लाल होता,

 तो तेरी रग रग में मेरे लिए प्यार होता।

ना चाँद अपना था, ना तू अपना था,

 काश ये दिल भी मान ले की सब सपना था।

जिंदिगी में प्यार क्या होता है ये,

 उस शक़्स से पूछो जिसने दिल टूटने के बाद भी इंतज़ार किया है।

कुछ लोग अपना वक़्त गुज़ारने के लिए दुसरो की ज़िंदिगिया बर्बाद कर देते हैं।

तुम्हारे बाद में जिसका होगया। हाँ उसी का नाम ‘तन्हाई’ है।

दिल फिर से उसकी यादों में डूबने जा रहा है।

कुछ इस लिए भी हम इश्क़ से अनजान है 

क्युकि दिल में उसके कोई और मेहमान है।

अपनों नें ऐसा फेंका कि गैरों को भी शरम आगई।

जब तक मतलब हो ख़ास। लोग देते हैं साथ।

बहुत भीड़ थी उनके दिल में खुद न निकलते तो निकाल दिए जाते।

बदल जाते हैं वो लोग वक़्त की तरह,

 जिन्हें वक़्त से ज़ादा वक़्त दिया जाता है।

तुम मौका देते रहोगे, लोग धोखा देते रहेंगे।

बस जीना है तुम्हारे साथ मरने से पहले।

कहानी हर किसी की होती है किसी की पूरी और किसी की अधूरी।

वक़्त को ज़रा वक़्त दो वक़्त आने पर वक़्त बदल जाएगा ।

If you like our this post on new status in Hindi with images than also visit our other blog as breakup status and life status 

This website has full of whatsapp status on different topic like sad whatsapp status, love statusmotivational status and on many other topics.

Leave a Comment